तुमको ख़बर हुई न ही ज़माना समझ सकाहम तुम पे चुपके-चुपके कई बार मर गए...!

तुमको ख़बर हुई न ही ज़माना समझ सका हम तुम पे चुपके-चुपके कई बार मर गए...!

by varanasilive

This Applet uses the following services:

1 Users Enabled This Applet 1
works with
  • Blogger
How it works

Applet version ID 265376