तुमको ख़बर हुई न ही ज़माना समझ सकाहम तुम पे चुपके-चुपके कई बार मर गए...!