twiter to blogger

श्री गुरूवर चरण वंदन, श्री बंधुवर सादर नमन, जय श्री राम . नाइ चरन सिरु कह कर जोरी॥ नाथ मोहि कछु नाहिन खोरी॥ अतिसय प्रबल देव तव माया॥ छूटइ राम करहु जौं दाया॥ . भावार्थ:-श्री रघुनाथजी के चरणों में सिर नवाकर हाथ जोड़कर सुग्रीव ने कहा- हे नाथ! मुझे कुछ भी दोष नहीं है। हे देव! आपकी माया अत्यंत ही प्रबल है। आप जब दया करते हैं, हे राम! तभी यह छूटती है॥ जय श्री राम

by ramgopalgpt

This Applet uses the following services:

1 Users Enabled This Applet 1
works with
  • Blogger
How it works

Applet version ID 369141