मेरी कविता

दीयों की रौशनी से झिलमिलाता आँगन हो , पटाख़ों की गूँजो से आसमान रोशन हो , ऐसे आये झूम के यह दिवाली , हर तरफ खुशियों का मौसम हो।

by merikavita2016

Learn more

1 Users Enabled This Applet 1
works with
  • Twitter

Applet version ID 480405